Home Ads

Radha Soami Babaji ki Sakhi - Samudra Ki Lehar | समुद्र की लहर

Radha Soami Babaji ki Sakhi - Samudra Ki Lehar
समुद्र के किनारे एक लहर आई। वो एक बच्चे की चप्पल अपने साथ बहा ले गई। बच्चा ने रेत पर अंगुली से लिखा-“समुद्र चोर है।”

उसी समुद्र के दूसरे किनारे पर कुछ मछुआरों ने बहुत सारी मछली पकड़ी। एक मछुआरे ने रेत पर लिखा-“समुद्र मेरा पालनहार है।”

एक युवक समुद्र में डूब कर मर गया। उसकी मां ने रेत पर लिखा-“समुद्र हत्यारा है।”

दूसरे किनारे पर एक ग़रीब बूढ़ा, टेढ़ी कमर लिए रेत पर टहल रहा था। उसे एक बड़ी सीप में अनमोल मोती मिला। उसने रेत पर लिखा-“समुद्र दानी है।”

Also Read -  आधा किलो आटा | Radha Soami Sakhi

अचानक एक बड़ी लहर आई और सारे लिखे को मिटा कर चली गई।


लोग समुद्र के बारे में जो भी कहें, लेकिन विशाल समुद्र अपनी लहरों में मस्त रहता है। अपना उफान और शांति वह अपने हिसाब से तय करता है।

अगर विशाल समुद्र बनना है तो किसी के निर्णय पर अपना ध्यान ना दें। जो करना है अपने हिसाब से करें। जो गुज़र गया उसकी चिंता में ना रहें। हार-जीत, खोना-पाना, सुख-दुख इन सबके चलते मन विचलित ना करें। अगर जिंदगी सुख शांति से ही भरी होती तो आदमी जन्म लेते समय रोता नहीं। जन्म के समय रोना और मरकर रुलाना इसी के बीच के संघर्ष भरे समय को ज़िंदगी कहते हैं।

‘कुछ ज़रूरतें पूरी, तो कुछ ख़्वाहिशें अधूरी

इन्ही सवालों का संतुलित जवाब है

–ज़िंदगी—
Kaisi Lagi Apko ye prernadayak kahani, Hamein Niche Comment Mein Jrur Btayein
Sari sangat ko dil se radha soami ji
Aur bhi babaji ki hindi sakhiyan padhne ke liye visit krte rhe RadhaSoamiSakhi.org pe.
Must Read - 

Post a comment

0 Comments