गुरूवाचनों की माला । Guru Ji ke Anmol Vachan

गुरुवचनों की माला:–
**************
1. भजन सिमरण का उत्तम समय सुबह 3 से 6 होता है|

2. 24 घंटे में से 3 घंटों पर आप का हक नही, ये समय गुरु का है |

3. कमाए हुए धन का 10 वा अंश गुरु का है. इसे परमार्थ में लगा देना चाहिए|

4. गुरु आदेश को पालना ही गुरु भक्ति है | गुरु का पहला आदेश भजन का है जो नामदान के समय मिला था |

5. 24 घंटों के जो भी काम, सुबह उठने से लेकर रात को सोने तक करो सब गुरु को समर्पित करके करोगे तो कर्म लागू नही होंगे |  जो हो रहा है उसे गुरु की मौज समझो |

6. 24 घंटे मन में सुमिरन करने से मन और अन्तःकरण साफ़ रहता है. और गुरु की याद भी हमेशा रहेगी. यही तो सुमिरन है|

7. भजन करने वालो को, भजन न करने वाले पागल कहते है | मीरा को भी तो लोगो ने प्रेम दीवानी कहा था |

8. कहीं कुछ खाओ तो सोच समझ कर खाओ, क्योंकि जिसका अन्न खाओगे तो मन भी वैसा ही हो जायेगा |

“जैसा खाए अन्न वैसा होवे मन, जैसा पीवे पानी वैसी होवे वाणी.”

9. गुरु का आदेश, एक प्रार्थना रोज़ होनी चाहिए |

10. सामूहिक सत्संग ध्यान भजन से लाभ मिलता है. एक कक्षा में होंशियार विद्यार्थी के पास बेठ कर कमजोर विद्यार्थी भी कुछ सीख लेता है, और कक्षा में उत्तीर्ण हो जाता है |

Aur padhen - भगत कबीर की बेटी की शादी

11. गुरु का प्रसाद यानी “बरक्कत” रोज़ लेनी चाहिये!

12. भोजन दिन में 2 बार करते हो तो भजन भी दिन में २ बार करना चाहिए, जिस दिन भजन न कर पाओ उस दिन भोजन भी करने का हक नही |

13. हर जीव में परमात्मा का अंश है इसलिए सब पर दया करो, सब के प्रति प्रेम भाव रखो, चाहे वो आपका दुश्मन ही क्यों न हो. इसे सोचोगे कि मैं परमात्मा की हर रूह से प्रेम करता हूँ तो भजन भी बनने लगेगा |

14. परमार्थ का रास्ता प्रेम का है, दिमाग लगाने लगोगे तो दुनिया की बातो में फंस के रह जाओगे।

15. आज के समय में वही समझदार है जो घर गृहस्थी का काम करते हुए भजन करके यहाँ से निकल चले, वरना बाद में तो रोने के सिवाय कुछ नही मिलने वाला |

16. अपनी मौत को हमेशा याद रखो. मौत याद रहेगी तो मन कभी भजन में रुखा नही होगा. मौत समय बताके नही आएगी |

17. साथ तो भजन जायेगा और कुछ नही. इसलिए कर लेने में ही भलाई है, और जगत के काम झूंठे है |

18. नरकों की एक झलक अगर दिखा दी जाये तो मानसिक संतुलन खो बैठोगे. इसलिए तो महात्माओ ने बताया सब सही है. वो किसी का नुकसान नही चाहते | बात तो बस विश्वास की है |

19. भोजन तो बस जीने के लिए खाओ. खाने के लिए मत जीवो. भोजन शरीर रक्षा के लिए करो |

20. परमार्थ में शरीर को सुखाना पड़ता है मन और इन्द्रियों को वश में करना पड़ता है जो ये करे वही परमार्थ के लायक है |

21. अपने भाग्य को सराहो कि आपको गुरु और नामदान मिल गये, जब दुनिया रोती नजर आएगी तब इसकी कीमत समझोगे |

22. किसी की निंदा मत करो वरना उसके कर्मो के भार तले दब जाओगे. क्यों किसी के कर्मों के लीद का पहाड़ अपने सर पर ले रहे हो |

23. भजन ना बनने का कारण है गुरु के वचनों का याद न रहना, गुरु वचनों को माला की तरह फेरते रहो जैसे एक कंगला अपनी झोली को बार बार टटोलता है |

24. इस कल युग में तीन बातो से जीव का कल्याण को सकता है. एक सतगुरु पूरे का साथ, दूसरा साधु की संगत और तीसरा “नाम” का सुमिरन, ध्यान और भजन,बाकी सब झगड़े की बाते है इस वक्त में सिवाय इन तीन बातो के और कर्मो में जीव का अकाज होता है।
🙏 सतगुरु आयो शरण तुम्हारी!💐


Comments

Popular posts from this blog

कुर्बानी के बिना मालिक नहीं मिलता। Radha soami sakhi

जानिए कैसे करना है भजन सिमरन। Radha soami sakhi

Latest Satsang dera beas 24-June-2018| सत्संग डेरा ब्यास