Saakhi- Sansarik Sukh hi Dukh ka Karan Hai | 5 अजगर और आदमी।


🙏बाबा जग फाथा महाजाल,गुर परसादी उबरे सच्चा नाम सँभाल
एक इंसान घने जंगल में भागा जा रहा था।
.
शाम हो गई थी।
.
अंधेरे में कुआं दिखाई नहीं दिया और वह उसमें गिरने लगा।
.
गिरते-गिरते कुएं पर झुके पेड़ की एक डाल उसके हाथ में आ गई। जब उसने नीचे झांका, तो देखा कि कुएं में पांच अजगर मुंह खोले उसे देख रहे हैं |
.
जिस डाल को वह पकड़े हुए था, उसे दो चूहे कुतर रहे थे।
.
इतने में एक हाथी आया और पेड़ को जोर-जोर से हिलाने लगा।
.
वह घबरा गया और सोचने लगा कि हे भगवान अब क्या होगा ?
.
उसी पेड़ पर मधुमक्खियों का छत्ता लगा था।
.
हाथी के पेड़ को हिलाने से मधुमक्खियां उडऩे लगीं और शहद की बूंदें टपकने लगीं।
.
एक बूंद उसके होठों पर आ गिरी। उसने प्यास से सूख रही जीभ को होठों पर फेरा, तो शहद की उस बूंद में गजब की मिठास थी।
.
कुछ पल बाद फिर शहद की एक और बूंद उसके मुंह में टपकी।
.
अब वह इतना मगन हो गया कि अपनी मुश्किलों को भूल गया।
.
तभी उस जंगल से  भगवान अपने वाहन से गुजरे।
.
भगवान  ने उसके पास जाकर कहा - मैं तुम्हें बचाना चाहता हूं। मेरा हाथ पकड़ लो।
उस इंसान ने कहा कि एक बूंद शहद और चाट लूं, फिर चलता हूं।
.
एक बूंद, फिर एक बूंद और हर एक बूंद के बाद अगली बूंद का इंतजार।
.
आखिर थक-हारकर भगवान् चले गए।
.
मित्रों..
वह जिस जंगल में जा रहा था,
.
.
वह जंगल है 👉दुनिया,
.
.
अंधेरा है 👉अज्ञान
.
.
5 अजगर हैं👉 काम, क्रोध, लोभ, मोह,अहंकार
.
.
पेड़ की डाली है 👉आयु
.
.
दिन-रात👉दो चूहे उसे कुतर रहे हैं।
.
.
घमंड👉मदमस्त हाथी पेड़ को उखाडऩे में लगा है।
.
.
शहद की बूंदें👉सांसारिक सुख हैं, जिनके कारण मनुष्य खतरे को भी अनदेखा कर देता है.....। 


Ye bhi padhen - भगवान भक्ति नहीं त्याग है
.
यानी,
सुख की माया में खोए मन को कोई भी नहीं बचा सकता......।
🙏🙏🙏🙏🌹🌹Radha Soami Sakhi🌹🌹🙏🙏🙏🙏

Bhagwan Bhakti Nhi Tyag Hai | भगवान भक्ति नहीं त्याग है।

एक गांव के अंत पर एक साधु रहता था।अकेला एक झोपड़े में,जिसमें कि द्वार भी नहीं थे और कुछ भी नहीं था,जिसके लिए कि द्वारों की आवश्यकता हो!
एक दिन कुछ सैनिक उधर आए। वे उस झोपड़े में जल मांगने गए। उनमें से किसी ने साधु से पूछा ‘आप कैसे साधु हैं?
आपके पास भगवान की कोई मूर्ति भी नहीं दिखाई पड़ती है।
‘वह साधु बोला’ यह झोपड़ा देखते हैं कि बहुत छोटा है।
इसमें दो के रहने के योग्य स्थान कहां है?'
उसकी यह बात सुन कर वे सैनिक हंसे और दूसरे
दिन भगवान की एक मूर्ति लेकर उसे भेंट करने लगे।
पर उस साधु ने कहा ‘मुझे भगवान की मूर्ति की कोई आवश्यकता नहीं, क्योंकि बहुत दिन हुए तब से वे
ही यहां रहते हैं,’मैं' तो मिट गया हूं।
देखते नहीं हैं कि यहां दो के रहने योग्य स्थान नहीं है?'
और उन सैनिकों ने देखा कि वह अपने हृदय की ओर इशारा कर रहा था। वही उसका झोपड़ा था।
परमात्मा अमूर्त है। वह निराकार है। चेतना का आकार नहीं हो सकता।
वह असीम है। सर्वव्यापि की कोई सीमा नहीं हो सकती है।वह अनादि है, अनंत है, क्योंकि’जो है'उसका आदि—अंत तक नहीं हो सकता है।
और हम कैसे बच्चे हैं कि उसकी भी मूर्तियां बना लेते हैं?
और फिर इन स्व—निर्मित मूर्तियों की पूजा करते हैं।
मनुष्य ने अपनी ही शकल में परमात्मा को गढ़ लिया है
और फिर इस भांति अपनी ही पूजा स्वयं ही किया करता है।
आत्मवचना, अहंकार और अज्ञान की यह अति है।भगवान की पूजा नहीं करनी होती है,भगवान को जीना होता है।उसकी मंदिर में नहीं,जीवन में प्रतिष्ठा करनी होती है।वह हृदय में विराजमान होऔर श्वास—श्वास मे परिव्याप्त हो जाए,ऐसी साधना करनी होती है।और इसके लिए जरूरी है कि‘मैं' विलीन हो!
उसके रहते प्रभु—प्रवेश नहीं हो सकता है।कबीर जी ने कहा है कि ,,प्रेम की वह गली
‘अति सांकरी' है और इसमें दो ना सामाए,
जब मैं था तब हरि नहीं ओर जब हरि है तो मैं नाहीं।।
Aur bhi achi stories padhne ke liye RadhaSoamiSakhi.org ko visit krte rhein.
Radha soami stories ko padhen aur share kren

कहानी “नालायक बेटा” | Nalayak Beta | Radha Soami

नालायक बेटा

देर रात अचानक ही पिता जी की तबियत बिगड़ गयी।

आहट पाते ही उनका नालायक बेटा उनके सामने था।
माँ ड्राईवर बुलाने की बात कह रही थी, पर उसने सोचा अब इतनी रात को इतना जल्दी ड्राईवर कहाँ आ पायेगा ?????
यह कहते हुये उसने सहज जिद और अपने मजबूत कंधो के सहारे बाऊजी को कार में बिठाया और तेज़ी से हॉस्पिटल की ओर भागा।
बाउजी दर्द से कराहने के साथ ही उसे डांट भी रहे थे
“धीरे चला नालायक, एक काम जो इससे ठीक से हो जाए।”
नालायक बोला
“आप ज्यादा बातें ना करें बाउजी, बस तेज़ साँसें लेते रहिये, हम हॉस्पिटल पहुँचने वाले हैं।”
अस्पताल पहुँचकर उन्हे डाक्टरों की निगरानी में सौंप,वो बाहर चहलकदमी करने लगा
, बचपन से आज तक अपने लिये वो नालायक ही सुनते आया था।
उसने भी कहीं न कहीं अपने मन में यह स्वीकार कर लिया था की उसका नाम ही शायद नालायक ही हैं ।
तभी तो स्कूल के समय से ही घर के लगभग सब लोग कहते थे की नालायक फिर से फेल हो गया।
नालायक को अपने यहाँ कोई चपरासी भी ना रखे।
कोई बेवकूफ ही इस नालायक को अपनी बेटी देगा।
शादी होने के बाद भी वक्त बेवक्त सब कहते रहते हैं की इस
बेचारी के भाग्य फूटें थे जो इस नालायक के पल्ले पड़ गयी।
हाँ बस एक माँ ही हैं जिसने उसके असल नाम को अब तक जीवित रखा है, पर आज अगर उसके बाउजी को कुछ हो गया तो शायद वे भी..
इस ख़याल के आते ही उसकी आँखे छलक गयी और वो उनके लिये हॉस्पिटल में बने एक मंदिर में प्रार्थना में डूब गया। प्रार्थना में शक्ति थी या समस्या मामूली, डाक्टरों ने सुबह सुबह ही बाऊजी को घर जाने की अनुमति दे दी।
घर लौटकर उनके कमरे में छोड़ते हुये बाऊजी एक बार फिर चीखें,
“छोड़ नालायक ! तुझे तो लगा होगा कि बूढ़ा अब लौटेगा ही नहीं।”
उदास वो उस कमरे से निकला, तो माँ से अब रहा नहीं गया, “इतना सब तो करता है, बावजूद इसके आपके लिये वो नालायक ही है ???
विवेक और विशाल दोनो अभी तक सोये हुए हैं उन्हें तो अंदाजा तक नही हैं की रात को क्या हुआ होगा …..बहुओं ने भी शायद उन्हें बताना उचित नही समझा होगा ।
यह बिना आवाज दिये आ गया और किसी को भी परेशान नही किया
भगवान न करे कल को कुछ अनहोनी हो जाती तो ?????
और आप हैं की ????
उसे शर्मिंदा करने और डांटने का एक भी मौका नही छोड़ते ।
कहते कहते माँ रोने लगी थी
इस बार बाऊजी ने आश्चर्य भरी नजरों से उनकी ओर देखा और फिर नज़रें नीची करली
माँ रोते रोते बोल रही थी
अरे, क्या कमी है हमारे बेटे में ?????
हाँ मानती हूँ पढाई में थोङा कमजोर था ….
तो क्या ????
क्या सभी होशियार ही होते हैं ??
वो अपना परिवार, हम दोनों को, घर-मकान, पुश्तैनी कारोबार, रिश्तेदार और रिश्तेदारी सब कुछ तो बखूबी सम्भाल रहा है
जबकि बाकी दोनों जिन्हें आप लायक समझते हैं वो बेटे सिर्फ अपने बीबी और बच्चों के अलावा ज्यादा से ज्यादा अपने ससुराल का ध्यान रखते हैं ।
कभी पुछा आपसे की आपकी तबियत कैसी हैं ??????
और आप हैं की ….
बाऊजी बोले सरला तुम भी मेरी भावना नही समझ पाई ????
मेरे शब्द ही पकङे न ??
क्या तुझे भी यहीं लगता हैं की इतना सब के होने बाद भी इसे बेटा कह के नहीं बुला पाने का, गले से नहीं लगा पाने का दुःख तो मुझे नही हैं ????
क्या मेरा दिल पत्थर का हैं ??????
हाँ सरला सच कहूँ दुःख तो मुझे भी होता ही है, पर उससे भी अधिक डर लगता है कि कहीं ये भी उनकी ही तरह *लायक* ना बन जाये।
इसलिए मैं इसे इसकी पूर्णताः का अहसास इसे अपने जीते जी तो कभी नही होने दूगाँ ….
माँ चौंक गई …..
ये क्या कह रहे हैं आप ???
हाँ सरला …यहीं सच हैं
अब तुम चाहो तो इसे मेरा स्वार्थ ही कह लो। “कहते हुये उन्होंने रोते हुए नजरे नीची किये हुए अपने हाथ माँ की तरफ जोड़ दिये जिसे माँ ने झट से अपनी हथेलियों में भर लिया।
और कहा अरे …अरे ये आप क्या कर रहे हैं
मुझे क्यो पाप का भागी बना रहे हैं ।
मेरी ही गलती हैं मैं आपको इतने वर्षों में भी पूरी तरह नही समझ पाई ……
और दूसरी ओर दरवाज़े पर वह नालायक खड़ा खङा यह सारी बातचीत सुन रहा था वो भी आंसुओं में तरबतर हो गया था।
उसके मन में आया की दौड़ कर अपने बाऊजी के गले से लग जाये पर ऐसा करते ही उसके बाऊजी झेंप जाते,
यह सोच कर वो अपने कमरे की ओर दौड़ गया।
कमरे तक पहुँचा भी नही था की बाऊजी की आवाज कानों में पङी..
अरे नालायक …..वो दवाईयाँ कहा रख दी
गाड़ी में ही छोड़ दी क्या ??????
कितना भी समझा दो इससे एक काम भी ठीक से नही होता ….
नालायक झट पट आँसू पौछते हुये गाड़ी से दवाईयाँ निकाल कर बाऊजी के कमरे की तरफ दौङ गया ।।
Ye bhi padhen - दुख और सुख