Skip to main content

Posts

Showing posts from August, 2017

60 pyare Shabad jo babaji aksar satsang me bolte hai| Radha Soami Sakhi

"These quotations are commenly used by BABA JI in thier satsangs:                      

▪1. Naamu upje naamu binse.

▪ 2. Chinta miti chahat gyi manoa beparwah, jisko kachoo na chahiye wahi shanshah.

▪ 3. Satsangat kesi jaaniye, jithe eko naam vakhanie.

▪ 4. Amla ute hon nibere kharian rehangiya jaata. 

▪5. Sajjan seyi naal mein, chaldiya nal chalan, jithe lekha mangie titthe khade disan.

▪ 6. Man mania manjoor hai, satguru sada hazur hai.

▪ 7. Oh shah sade to vakh nahi, par vekhan wali aakh nahi tahio jaan jodaia payi sehndi ae. 

▪8. Mere Pritmma......... hau jeeva naam dheyae, bin naame jiwan na thhie mere satgur naam dir rraye.

▪ 9. Eko naam hukam hai nanak satguru diya bujhye jiyo.

▪ 10. Atam me ram Ram me atam. 

▪11. Na sukh wich gresath de, na sukh chhad giya, sukh hai vichar de saanta sharan piya 

▪12. Jagjeewan saacha eko daata. 

▪13. Harmender eh shareer hai, gian ratan pargat hoye. 

▪14. Is deh vich naam nidhaan hai paayie gur ke hirde aapar.

▪ 15. You are the temple of living god.

 ▪16…

बुल्ले शाह और गुलाल। जब शिष्य और गुरु एक साथ जन्मे। Radha soami sakhi

**********बुल्ले शाह और गुलाल*********

गुलाल शिष्य थे बुल्ला शाह के। यह तो कोई बात खास नहीं: बुल्ला शाह के बहुत शिष्य थे। और हजारों सदगुरू हुए है और उनके हजारों-लाखों शिष्य हुए है। इसमें कुछ अभूतपूर्व नहीं। अभूतपूर्व ऐसा है कि गुलाल एक छोटे-मोटे जमिंदार थे। और उनका एक चरवाहा था। उसकी आंखों में खुमार था। उसके उठने-बैठने में एक मस्ती थीं। कहीं रखता था पैर, कहीं पड़ते थे पैर। और सदा मगन रहता था। कुछ था नहीं उसके पास मगन होने को—चरवाहा था, बस दो जून रोटी मिल जाती थी। उतना ही काफी था। सुबह से निकल जाता खेत में काम करन, जो भी काम हो,रात थका मांदा लौटता; लेकिन कभी किसी ने उसे अपने आनंद को खोते नहीं देखा। एक आनंद की आभा उसे घेरे रहती थी। उसके बाबत खबरें आती थी—गुलाल के पास, मालिक के पास—कि यह चरवाहा कुछ ज्यादा काम करता नहीं; क्योंकि उसे खेत में नाचते देखा जाता था। मस्त डोलते मगन आसमान में उड़ते पक्षियों की तरह चहकते देखा था। काम ये क्या खाक करेगा। तुम भेजते हो गाएं चराने गाए एक तरफ चरती रहती है, यह झाड़ पर बैठकर बांसुरी बजाता है। हां, बांसुरी गजब की बजाता है। यह सच है, मगर बांसुरी बजाने से और …

20 याद रखने योग्य बातें। 20 things to remember । Radha soami sakhi

*1.🌟 प्रतिदिन 10 से 30 मिनट टहलने की आदत बनायें. चाहे समय ना हो तो घर मे ही टहले , टहलते समय चेहरे पर मुस्कराहट रखें.


🌟 *2.* प्रतिदिन कम से कम 10 मिनट चुप रहकर बैठें.



🌟 *3.* पिछले साल की तुलना में इस साल ज्यादा पुस्तकें पढ़ें.



🌟 *4.* 70 साल की उम्र से अधिक आयु के बुजुर्गों और 6 साल से कम आयु के बच्चों के साथ भी कुछ समय व्यतीत करें.



🌟 *5.* प्रतिदिन खूब पानी पियें.



🌟 *6.* प्रतिदिन कम से कम तीन बार  ये सोचे की मैने आज कुछ गलत तो नही किया.



🌟 *7.* गपशप पर अपनी कीमती ऊर्जा बर्बाद न करें.



🌟 *8.* अतीत के मुद्दों को भूल जायें, अतीत की गलतियों को अपने जीवनसाथी को याद न दिलायें.



🌟 *9.* एहसास कीजिये कि जीवन एक स्कूल है और आप यहां सीखने के लिये आये हैं. जो समस्याएं आप यहाँ देखते हैं, वे पाठ्यक्रम का हिस्सा हैं.



🌟 *10.* एक राजा की तरह नाश्ता, एक राजकुमार की तरह दोपहर का भोजन और एक भिखारी की तरह रात का खाना खायें.



🌟 *11.* दूसरों से नफरत करने में अपना समय व ऊर्जा बर्बाद न करें. नफरत के लिए ये जीवन बहुत छोटा है.



🌟 *12.* आपको हर बहस में जीतने की जरूरत नहीं है, असहमति पर भी अपनी सहमति दें.