Skip to main content

Posts

Showing posts from December, 2016

प्यार की ताकत

ये साखी वर्त्तमान सतगुरु के बारे में है। एक बार बाबा जी का प्रेमी था जो बहुत दूर रहता था और वो बहुत गरीब था। वो जूते बनाने का काम करता था और हक़ हलाल की कमाई करता था। वो हर बार डेरे जाने की सोचता पर हर बार पैसों की कमी की वजह से जा नही पाता। एक बार बाबा जी का हिमाचल में चक्कर लगा। उन्होंने सत्संग में दर्शन देने के बाद ड्राइवर को गाड़ी एक पहाड़ी की तरफ ले जाने को बोला। ड्राइवर ने भी बिना कोई सवाल जवाब किये बिना गाड़ी घुमा ली। गाड़ी एक पगडण्डी पर जाकर रुकी। आगे का रास्ता चलकर जाने वाला था। बाबा जी लगभग 4 से 5 किलोमीटर चलकर उस आदमी की झोपड़ी के पास पहुंचे।  वहां पास में ही उसकी दुकान थी। उसकी दुकान इतनी छोटी थी की बाहर खड़े आदमी का चेहरा नही दिखता था। बाबाजी ने अपना जूता आगे करके साफ़ करने को बोला। उसने जूते को पोलिश करदिया। बाबाजी ने पूछा की कितने पैसे हुए। वो बोला की साहब 5 रुपए। बाबाजी ने उसे 10 का नोट दिया। उसने कहा कि साहब खुले नही है। 5 खुले दीजिये। बाबाजी ने कहा कि तू बाकि के रखले कोई बात नही। वो आदमी बोला की नही मैं 5 नही रख सकता, मेरे गुरु ने मेरे को हक़ हलाल की कमाई करने का हुकम दिया ह…