Skip to main content

सच्चा प्रेम


सच्चाप्रेमी
काफी पुरानी बात उन दिनों की है जब हुज़ूर महाराज चरण सिंह जी हिमाचल में सत्संग कर रहे थे।
हुज़ूर माहराज के समय गुरुप्यारी साध संगत को सत्संग के बाद स्टेज के पास दर्शन देनें की परंपरा थी।
हुजूर सत्संग पश्च्यात स्टेज की गुरु गद्दी पे विराजित होते और संगत लाईन लगा के हुज़ूर माहराज के दर्शनों से अपनी प्यास बुझाती थी दर्शनों पश्च्यात प्रसाद भी दिया जाता था। सत्संग के आखरी दिन जब सारी संगत हुज़ूर माहराज चरण सिंह जी के दर्शनों से अपनी प्यास बुझा चुकी तो हुज़ूर स्टेज ( गुरुगद्दी ) से निचे नही उतरे। समीप खड़े सेवादारों और हज़ारों की तादात में उत्सुक खड़ी संगत को भी बड़ा अचरज हुवा पुरे पांडाल में सन्नाटा छा गया लोग एक दूसरे की तरफ आश्चर्य से देखनें लगे। किस की मज़ाल जो हुज़ूर से बैठनें का कारण पूछ सके हुज़ूर के चेहरे पे बहुत ही भोली और प्यारी सी मीठी सी मुस्कान बनी हुई थी संगत तो जैसे जड़ हो चुकी थी। डरते डरते एक बहुत बुज़ुर्ग सेवादार नें हाथ जोड़ के हुज़ूर माहराज जी से विनती वाले अंदाज़ में पूछा की हुज़ूर आज बैठनें का कारण..??
हुज़ूर बहुत ही प्यार भरी मुस्कान लुटाते हुवे बोले की भाई..वो जो 13 न. का पांडाल में खम्बा है वहां एक मेरा सच्चा प्रेमी बैठा है.. उसके पास जाओ और प्रेम से कहना की हुज़ूर ने तुम्हे अपनें दर्शनों के लिये भेंटां के साथ बुलवाया है ..?? 
सेवादार फ़ौरन 13 न. खम्बे के पास पहुंचे व अकेले उदास बैठे गरीब सत्संगी से हाथ जोड़ के विनती करी और बोले चलिये आपको हुज़ूर माहराज जी ने खुद दर्शनों के लिये दसवंद भेंटां के साथ बुलवाया है।  गुरु का प्यारा और दुलारा सत्संगी हाथ जोड़ के हुज़ूर के चरणों के समीप खड़ा होके आंखों से गंगा यमुना बहाने लगा दर्शनों के बाद इस विशेष सत्संगी की आंखों से आंसूं रुकनें का नाम ही नही ले रहे थे।  हुज़ूर ने बड़े प्यार से निहाल कर देनें वाली नज़र उस सत्संगी पे डाली और शांत बैठे रहे।  जिग्यासु सत्संगियों से रहा नही गया और हुज़ूर से हाथ जोड़ के विनती वाले अंदाज़ में पूछा की हुज़ूर संगत तो हम भी हैं आपकी फिर हममें और इस सत्संगी भाई में क्या फर्क है जिसके लिये आप रुके रहे और आपनें आज्ञा दे के इस सत्संगी भाई को अपनें पास बुलाया इस राज से पर्दा उठाइये हुज़ूर..??  संगत की प्यार भरी विनती से हुजूर मुस्कराये और बोले की ये सत्संगी इतना प्यारा क्यों है ..??  तो सुनों..ये मेरा सत्संगी बहुत ही 'दिन' और 'गरीब' है ये एक साल से पाई - पाई पैसा जोड़ रहा था, सत्संग में आनें के लिये, पर इसके पास सिर्फ इतना ही पैसा इकट्ठा हुवा, जितना इसके गांव से सत्संग में आनें का किराया,लेकिन भेंटां ( दानपात्र ) में देने के लिये और पैसा नही था तो ....  इस गुरु के प्यारे ने, जो बस के किराये के लिये पैसे ,पाई पाई करके जोड़े थे ,वो दसवंद ( दानपात्र ) के लिये रख लिये ,( क्योंकि इसके पास और पैसा नही था ) और सत्संग में आनें के लिये 10 दिनों तक पैदल चल केयहां पहुंचा है.. ताकि ये किराए के लिये कट्ठा किया पैसा गुरु की गोलख में डाल सकुं ..और दर्शनों को इसलिये नही आया की दसवंद में डालनें की रकम बहुत थोड़ी थी और इसे लज्जा ,शर्म आ रही थी की मेरा गुरु को क्या मुंह दिखाऊंअब बताओ ये मेरा प्यारा सत्संगी हुवा के नही..??
ये व्यथा सुन के सभी सेवादार और सत्संगियों की आंखों से आंसुओं की धाराएं बहनें लगी, और उस गुरु के प्यारे सत्संगी को सभी सेवादारों और सत्संगियों ने बहुत आदर ,मान, और इज्ज़त दी।
।।लख खुशियां पातशाहियां।
।।।जे सतगुरु नदर करे।।

Comments

Popular posts from this blog

कुर्बानी के बिना मालिक नहीं मिलता। Radha soami sakhi

संतों की एक सभा चल रही थी 

किसी ने एक दिन एक घड़े में गंगाजल भरकर वहां रखवा दिया ताकि संत जन जब प्यास लगे तो गंगाजल पी सकें

संतों की उस सभा के बाहर एक व्यक्ति खड़ा था. उसने गंगाजल से भरे घड़े को देखा तो उसे तरह-तरह के विचार आने लगे

वह सोचने लगा- अहा ! यह घड़ा कितना भाग्यशाली है !

एक तो इसमें किसी तालाब पोखर का नहीं बल्कि गंगाजल भरा गया और दूसरे यह अब सन्तों के काम आयेगा

संतों का स्पर्श मिलेगा, उनकी सेवा का अवसर मिलेगा. ऐसी किस्मत किसी किसी की ही होती है

       Also read - अल्लाह की मर्जी

घड़े ने उसके मन के भाव पढ़ लिए और घड़ा बोल पड़ा- बंधु मैं तो मिट्टी के रूप में शून्य पड़ा था

किसी काम का नहीं था. कभी नहीं लगता था कि भगवान् ने हमारे साथ न्याय किया है

फिर एक दिन एक कुम्हार आया. उसने फावड़ा मार-मारकर हमको खोदा और गधे पर लादकर अपने घर ले गया

वहां ले जाकर हमको उसने रौंदा. फिर पानी डालकर गूंथा. चाकपर चढ़ाकर तेजी से घुमाया, फिर गला काटा. फिर थापी मार-मारकर बराबर किया

बात यहीं नहीं रूकी. उसके बाद आंवे के आग में झोंक दिया जलने को

इतने कष्ट सहकर बाहर निकला तो गधे पर लादकर उसने मुझे बाजार में भेज …

Latest Satsang dera beas 24-June-2018| सत्संग डेरा ब्यास

Satsang dera beas 24-June-2018

सत्संग डेरा ब्यास

जो जो ब्यास नहीं जा सका वो सत्संग यहां पढ़ो जी। और अपने प्रिय जनो के साथ शेयर भी करो जी।

Published by- RadhaSoamiSakhi.org

बाबाजी ने स्टेज पर आते ही अपने स्वभाव अनुसार संगत को प्रणाम किया और संगत पर वो रूह को झझकोर देने वाली दृष्टि डाली।

प्रत्येक रूह उसके दर्शन को पाकर हर्षोल्लास से गदगद हो रही थी, जो कि संगत के चेहरे से साफ साफ देखा जा सकता था।



बाबाजी ने इस बार हुज़ूर तुलसी साहिब की ग़ज़ल " दिल का हुजरा साफ कर, जाना के आने के लिए" ली और बहुत ही खूबसूरत तरीके से व्याख्या की।



-सत्संग के कुछ अंश

शब्द- दिल का हुजरा साफ कर, जाना के आने के लिए। ध्यान गैरों का उठा उसके बिठाने के लिए।



बाबाजी- शब्द धुन या शब्द प्रकाश सबके अंदर निरंतर बज रहा है, हमारे और शब्द के बीच बारीक से पर्दा है वो है मन का। मन दुनियावी लज्जतों में इतना खो चुका है कि उसे उस धुन का ख्याल ही नही है।

हमारा मन मैला हो चुका है, और जैसे किसी मैले बर्तन में कुछ भी डालो वो गंदगी का हिस्सा बन जाती है ठीक वैसे ही अगर इस मैले मन मे प्रभु कृपा कर भी दें तो वो भी गंदगी और मैल का ह…

जानिए कैसे करना है भजन सिमरन। Radha soami sakhi

हम सबको भजन सिमरन करने का हुक्म है।
पर सही तरीका क्या है ? 
बाबाजी नामदान के वक्त सही तरीका समझाते है। आप भी पढ़ें और जाने

1. सिमरन हमेशा छुप कर करना चाहिए। खुद को ढक लेना चाहिए, ताकि हमें कोई देख न सके और हम बिना किसी बाधा के सिमरन कर सके।

2. सिमरन सुबह 3 बजे उठकर, नहा धोकर करना चाहिए, नहाना इसलिए जरूरी है ताकि सुस्ती न आ सके, और कोई खास कारण नही है।

3. रात को भोजन संयम से करना चाहिए ताकि ज्यादा नींद न आये और हम रात को भी सिमरन कर सकें।

4. खाना हमेशा शाकाहारी और हल्का फुल्का होना चाहिए, ताकि शरीर बीमारियों से बचा रहे।

5. किसी भी प्रकार के नशे का सेवन वर्जित है।

6. प्रेम करें, मोह नहीं।

7. अपने अन्दरूनी रहस्यों को कभी दूसरों को न बताएं, इससे आपकी ही दौलत कम होगी।

8. क्रोध को कोसों दूर रखें। क्रोध और सिमरन ये उलट है।
Also Read-मृत्यु की तैयारी
9. सतगुरु का चिंतन हमेशा करते रहे। एक पल के लिए भी नाम को न भूलें।

10. संयम से काम लें। परइस्त्री( परायी इस्त्री) पर कभी भी नजर न रखे। ये आपकी वर्षों की कमाई दौलत को मिट्टी कर सकता है। और आपको पीछे धकेल सकता है।
www.RadhaSoamiSakhi.org
11. कभी शिकायत न करें। ज…